Crime

आज घर लौटने वाले कोटा में फंसे मध्य प्रदेश के 3 हज़ार छात्र-छात्रायें, 140 बसे रवाना | gwalior – समाचार हिंदी में


आज घर लौटने वाले कोटा में फंसे मध्यप्रदेश के 3 हज़ार छात्र-छात्रायें, 140 बसे चले गए

कंप्यूटर और मेडिकल प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए ये छात्र महीनों पहले कोटा गए थे, इसी तरह लॉक डाउन होने से ये वहीं फंसे रह गए।

ग्वालिय़र। बीते 25 मार्च से राजस्थान के कोटा शहर में फंसे मध्यप्रदेश के 3191 हजार छात्र-छात्राएं आज घर लौट रहे हैं। ग्वालियर से 140 बसें छात्रों को लेने कोटा छोड़ने जा चुका है।कोटा से लौटने पर ये बसें श्योपुर, शिवपुरी, गुना, राजगढ़, आगर मालवा और नीमच से प्रदेश में एंट्री करेंगी, एंट्री जिलों में छात्रों का मेडिकल टेस्ट होगा। इन सभी छात्रों को 14 दिन के लिए क्वॉरेंटाइन किया जाएगा

ग्वालियार से 140 बसों का काफिला रवाना

लॉक डाउन के कारण मूल्यांकन में फंसे मध्य प्रदेश के तीन हजार से ज्यादा छात्र-छात्राओं की घर वापसी हो रही है। कंप्यूटर और मेडिकल प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए ये छात्र महीनों पहले कोटा गए थे, इसी तरह लॉक डाउन होने से ये वहीं फंसे रह गए। तब से उनके परिवार वाले परेशान हैं। उन्होंने सरकार से अपील की थी कि वह बच्चों को घर लाने का इंतज़ाम करे। आब प्रदेश सरकार के निर्देश पर परिवहन विभाग ने कोटा से छात्रों को लाने के लिए 140 बसों की व्यवस्था की।

ज़रूरी एहतियात और संसाधनों के साथ बसें रवाना हो गईंमंगलवार को सबसे पहले ग्वालियर में बसों को एसएएफ ग्राउंड पर जमा किया गया। कोराना संक्रमण के खतरे को देखते हुए ये सभी बसों को सेनेटाइज़ किया गया। बसों में मेडिकल किट और अन्य आवश्यक संसाधन लगाए गए फिर इनको ग्वालियर से कोटा के लिए रवाना किया गया। सोशल डिस्टेंस का ख्याल रखते हुए एक बस लगभग 20 छात्र-छात्राओं को लाया जाएगा। एमपी के लिए रवानगी से पहले कोटा में इन छात्रों की स्क्रीनिंग होगी। उसके बाद निर्धारित जिलों के लिए अलग-अलग रूट की बसों में 20-20 छात्रों को बैठाकर लाया जाएगा।

प्रदेश में छह एंट्री पॉइंट से प्रवेश करेंगी बसें

कोटा से छात्रों को लाने वाली ये बसें प्रदेश के छह स्थानों से प्रवेश करेंगी। कोटा से आने वाली बसें श्योपुर, शिवपुरी, गुना, राजगढ़, आगर मालवा और नीमच ज़िलों से एमपी में दाखिल होंगे। कोटा से श्योपुर के रास्ते 7 बसें एमपी में आएगी। वहीं कोटा से ज्यादा 59 बसंत शिवपुरी जिले से एमपी में आएगी। गुना के रास्ते 27 बसंत, राजगढ़ से 28 बसंत, आगर मालवा से 9 बसें और नीमच के रास्ते 10 बसें एमपी लौटेंगी। एमपी की सीमा में ही इन ज़िलों में बसों को रोका जाएगा। सभी छात्र-छात्राओं की स्क्रीनिंग की जाएगी। स्वस्थ छात्रों को उनके गृह जिले में किया जाएगा। गांधीजी पाए जाने वाले छात्र-छात्राओं का इलाज किया जाएगा।

एज्यूकेशन हब कोटा शहर है

राजस्थान का कोटा शहर एजुकेशन हब है। यहां अच्छे कोचिंग संस्थान होने के कारण देश भर से छात्र-छात्राएं प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए कोचिंग लेने आते हैं। इस बार एमपी के लगभग 3 हजार छात्र वहां कोचिंग लेने गए हैं। छात्र कोटा में कंप्यूटर और मेडिकल प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी के लिए गए थे और इस बीच लॉक डाउन हो गया था। एमपी के करीब 20 हजार से ज्यादा छात्र सालाना पढाई करने कोटा जाते हैं।

ये भी पढ़ें-

शिवराज ने आखिरकार मिनी मिनी का गठन, सिंधिया समर्थकों का बोलबाला

शिवराजडिया गठन पर पूर्व सीएम कमलनाथ ने कसा तंज, कहा- आगे आगे देखिए …?

News18 हिंदी सबसे पहले हिंदी समाचार हमारे लिए पढ़ना यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर । फोल्ट्स। देखिए ग्वालियर से संलग्न लेटेस्ट समाचार।

प्रथम प्रकाशित: 22 अप्रैल, 2020, 7:42 AM IST


इस दिवाली बंपर अधिसूचना
फेस्टिव सीजन 75% की एक्स्ट्रा छूट। केवल 289 में एक साल के लिए सब्सक्राइब करें करें मनी कंट्रोल प्रो।कोड कोड: DIWALI ऑफ़र: 10 नवंबर, 2019 तक

->





Source link