Crime

शिवराजडिया में विभागों का बंटवारा: नरोत्तम मिश्रा को गृह और स्वास्थ्य, सिलावट को जल संसाधन | bhopal – समाचार हिंदी में


शिवराजगढ़ में विभागों का बंटवारा

शिवराजड़िया (शिवराज कैबिनेट) के लगभग महीने भर बाद गठन पर कांग्रेस (कांग्रेस) ने चुटकी ली थी। पूर्व सीएम कमलनाथ ने सवाल उठाया था कि एक महीने बाद जेल का गठन वे भी सिर्फ़ 5 मंत्री और विभाग का बंट्टारा नहीं करेंगे? इसी से समझा जा सकता है कि भाजपा में कितनी अंतर्द्वंद चल रही है, कितनी आंतरिक संघर्ष चल रही है।

भोपाल।शिवराज (शिवराज सिंह चौहान) के नवगठित्री में कलाकारों के बीच विभागों का बंटवारा कर दिया गया है। नरोत्तम मिश्रा मध्य प्रदेश (मध्य प्रदेश) । नए गृह मंत्री होंगे। कोरोना संक्रमण से जूझ रहे मध्य प्रदेश में स्वास्थ्य मंत्रालय का जिम्मा भी उन्हें ही सौंपा गया है।

शिवराज सिंह चौहान ने अपने मंत्रियों को विभागों की जिम्मेदारी सौंप दी है। नरोत्तम मिश्रा को गृह और स्वास्थ्य विभाग दिया गया है। जबकि तुलसी सिलावट अब प्रदेश के जल संसाधन मंत्री हैंगें। कमलनाथ सरकार में वे स्वास्थ्य मंत्रालय संभाल रहे थे। कमल पटेल को कृषि विभाग की जिम्मेदारी दी गयी ।इससे पहले सचिन यादव कांग्रेस सरकार में ये मंत्रालय देख रहे थे। गोविंद राजपूत खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री बनाए गए हैं। इससे पहले कमलनाथ सरकार में ये मंत्रालय सिंधिया के खास और ग्वालियर से विधायक रहे प्रद्युम्न सिंह के पास था। शिवराज के दोस्तों की एक मात्र महिला सदस्य मीना सिंह को मीना सिंह -आदिम जाति कल्याण मंत्री बनाया गया है।

मंत्रालय से पहले संभागों की दी ज़िंदा सूची थी

इससे पहले मंगलवार को कालि गठन के बाद शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रियों को मंत्रालय के बजाए संभागों का प्रतिद्वंद्वियों को सौंप दिया था। परोत्तम मिश्रा को भोपाल और अजैन संभाग दिए गए हैं। जबकि तुलसी सिलावट इंदौर और सागर संभाग देखें। कमल पेट को जबलपुर और नर्मदापुरम संभाग की जिम्मेदारी दी गयी है। गोविंद राजपूत ग्वालियर और चंबल संभाग के हालात पर नजर रखेंगे। अग्र की अन्य सदस्य मीना सिंह के व्यक्तित्वे रेवा और शहडोल संभाग रहेंगे। प्रदेश में कोरोना महामारी की रोकथाम के लिहाज से कलाकारों के बीच विभागों के बजाए संभागों का बंटवारा किया गया है।कांग्रेस ने उठाए थे सवाल

शिवराजड़िया (शिवराज कैबिनेट) के लगभग महीने भर बाद गठन पर कांग्रेस (कांग्रेस) ने चुटकी ली थी। पूर्व सीएम कमलनाथ ने सवाल उठाया था कि महीने भर बाद भी बीजेपी सिर्फ 5 मंत्री ही बना पायी और अपने कद्दावर नेताओं को बाहर रखकर दलबदलुओं को तरजीह दी गयी। कमलनाथ ने कहा कि आगे-आगे देखिए कितने दिन सरकार चले गए हैं। एक महीने बाद सुलह का गठन वे भी सिर्फ़ 5 मंत्री और विभाग का बंटवारा नहीं? इसी से समझा जा सकता है कि भाजपा में कितनी अंतर्द्वंद चल रही है, कितनी आंतरिक संघर्ष चल रही है।

मंगलवार को लघुशंका करें

23 मार्च को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले शिवराज सिंह चौहान ने लगभग एक महीने बाद मंगलवार को अपने मिनी क्लब का गठन किया। इसमें पांच वैज्ञानिकों को जगह दी गयी है। इनमें से दो ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक मंत्री हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके समर्थकों के कांग्रेस से बागी होने के बाद प्रदेश में कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गयी थी। सिंधिया और उनकी टीम के बीजेपी में जाने के बाद पार्टी सत्ता में आयी। 23 मार्च को जब शिवराज ने चौथी बार प्रदेश की सत्ता संभाली थी तब तक मध्य प्रदेश कोरोना आपदा से घिर चुका था। ऐसी परिस्थिति में कालिया का गठन नहीं हो पाया था। तब से शिवराज अकेले ही प्रदेश की कमान संभाले हुए थे।

(अनुराग श्रीवास्तव का इनपुट)

ये भी पढ़ें-

धार में आरएसएस नेता के भतीजे की तीर मारकर हत्या, हत्या में चाचा की भी मौत

पुलिसकर्मी बाप-बेटा कोरोना पॉजिटिव, ईओडब्ल्यू महानिदेशक सहित पूरा स्टाफ होम अलवरेंटाइन

News18 हिंदी सबसे पहले हिंदी समाचार हमारे लिए पढ़ना यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर । फोल्ट्स। देखिए भोपाल से संलग्न लेटेस्ट समाचार।

प्रथम प्रकाशित: 22 अप्रैल, 2020, 1:00 अपराह्न IST


इस दिवाली बंपर अधिसूचना
फेस्टिव सीजन 75% की एक्स्ट्रा छूट। केवल 289 में एक साल के लिए सब्सक्राइब करें करें मनी कंट्रोल प्रो।कोड कोड: DIWALI ऑफ़र: 10 नवंबर, 2019 तक

->





Source link