Crime

COVID-19 से जंग: कोरोना ताकतें को पकड़ने के लिए मुखबिरों की मदद ले रही भोपाल पुलिस … COVID-19: भोपाल पुलिस ने कोरोना संक्रमित को पकड़ने के लिए मुखबिरों की मदद ली … | bhopal – समाचार हिंदी में


मुखबिरों की मदद से पकड़े जा रहे कोरोना योग्य
(सांकेतिक चित्र)

कोरोना अभिव्यक्तियों (कोरोना संदिग्धों) की पहुंच-पकड़ के लिए पुलिस थानों का स्टाफ लगातार वालिंटियर्स से संपर्क कर रहा है, उन्हें जानकारी मिलने के बाद पुलिस अधिकारियों को सूचना दी जाती है और फिर मेडिकल टीम (मेडिकल टीम) के साथ पुलिस पहुंचती है .. ।

भोपाल। महामारी (महामारी) कोरोनावायरस (कोरोनावायरस) की चपेट में इस समय पूरा देश है। लेकिन इस संक्रमण के मद्देनजर मध्य प्रदेश के हालात बेहद नाजुक हैं, टाइपों की संख्या लगातार तेजी से बढ़ रही है। देशव्यापी लॉकडाउन (लॉकडाउन) का पालन कराने के लिए पुलिसकर्मी लोगों की सुरक्षा के लिहाज से अपनी ड्यूटी पर तैनात हैं। लेकिन अभी भी लोग इस बीमारी के जोखिमों को छिपा रहे हैं। इसलिए जो पुलिस अब तक अपराधियों को पकड़ने के लिए मुखबिरों की मदद लिया करती थी इस कोरोना संक्रमण काल ​​(कोरोना संक्रमण अवधि) के दौरान बस्तियों में कोरोना के हानिकारक रोगियों की पहचान और खोजबीन के लिए मुखबिरों की मदद करना रही है।

पुलिस के साथ 218 वालिंटियर काम कर रहे हैं

सघन बस्तियों में पुलिस कोरोना के लक्षण छुपाने वाले लोगो की तलाश में मुखबिरों की मदद ले रही है। इस काम में पुलिस का साथ दे रहे हैं 218 वालंटियर। भोपाल के ऐशबाग इलाके में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिला है। इसके बाद से ऐशबाग इलाके में पुलिस काफी सख्ती कर रही है। ऐशबाग, शाहजहानाबाद सहित कई क्षेत्रों में सघन बस्तियां हैं। पुलिस ने इन बस्तियों में पुलिस मित्र बनाने शुरू किए हैं। वर्तमान में पुलिस के साथ 218 वालिंटियर काम कर रहे हैं। वॉलिंटियर्स बस्तियों में जाना सर्दी, खांसी, जुकाम, बुखार के लक्षणों वाले रोगियों की पहचान कर रहे हैं और ऐसे लक्षण छुपाने वाले लोगों के बारे में पुलिस को सूचना भी दे रहे हैं।

ग्राम रक्षा समितियों ने भी संभाला मोर्चा कीकोरोना संभावितों की पहुँच-पकड़ के लिए पुलिस थानों का स्टाफ लगातार वालिंटियर्स से संपर्क कर रहा है उन्हें जानकारी मिलने के बाद पुलिस अधिकारियों को सूचना दी जाती है। मेडिकल टीम के साथ पुलिस पहुंचती है संबंधित व्यक्ति के घर सर्दी, खांसी, जुकाम और बुखार के लक्षण वाले व्यक्ति के घर की पहचान के साथ मुखबिर की सूचना पर पुलिस व्यक्ति के घर पहुंचती है। पुलिस मेडिकल टीम के साथ कोरोना के लक्षण वाले व्यक्ति के घर तक पहुंचती है। मेडिकल टीम संबंधित व्यक्ति का मेडिकल चेकअप करती है और सैंपल जांच के लिए भेजती है। रिपोर्ट आने या उससे भी पहले जैसी आवश्यकता हो उन्हें क्वॉरेंटाइन या फिर आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट भी पुलिस करा रही है। सघन बस्तियों में कोरोना के लक्षण छुपाने वाले लोगों पर अब पुलिस की नजर है। सभी थाना क्षेत्रों में गठित ग्राम रक्षा समिति अभी पुलिस के साथ कोरोना के खिलाफ जंग में मोर्चा संभाले हुए हैं। पुलिस जहां अनाउंसमेंट कर लोगों को घर के अंदर रहने की अपील कर रही है। वहीं दूसरी तरफ सघन बस्तियों में संदिग्ध कोरोनाटे रोगियों के बारे में जानकारी भी जुटा रही है।

ये भी पढ़ें- शिवराजगढ़ का गठन पूर्व सीएम कमलनाथ ने कसा तंज, कहा- आगे आगे देखिए …?

News18 हिंदी सबसे पहले हिंदी समाचार हमारे लिए पढ़ना यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर । फोल्ट्स। देखिए भोपाल से संलग्न लेटेस्ट समाचार।

प्रथम प्रकाशित: 21 अप्रैल, 2020, 9:38 PM IST


इस दिवाली बंपर अधिसूचना
फेस्टिव सीजन 75% की एक्स्ट्रा छूट। केवल 289 में एक साल के लिए सब्सक्राइब करें करें मनी कंट्रोल प्रो।कोड कोड: DIWALI ऑफ़र: 10 नवंबर, 2019 तक

->





Source link