मध्य प्रदेश में 6 जुलाई से हमरा घर हमार विद्यालय योजना के तहत छात्र अध्ययन करेंगे – हमारा घर हमारा विद्यालय: मध्यप्रदेश में छह जुलाई से हर घर में शामी स्कूल की घंटी
Breaking News

हमारा घर हमारा विद्यालय: छह जुलाई से हर घर में शामी स्कूल की घंटी

मध्यप्रदेश के हर घर में छह जुलाई से स्कूल की घंटी सुनाई होगी। इस दौरान बच्चे पढ़ेंगे, लिखेंगे और सुनेंगे। कोरोना परिस्थिति काल में छात्रों की शैक्षिक निरंतरता बनाए रखने के लिए राज्य शिक्षा केंद्र और स्कूल शिक्षा विभाग ने घर हमारा घर हमारा विद्यालय ’योजना तैयार की है।

इस योजना के तहत आगामी 6 जुलाई से बच्चों के घरों पर ही स्कूली वातावरण में अध्ययन की तैयारी की गई है। इस कार्यक्रम का स्पष्ट उद्घाटन आज मंत्रालय में सुबह 11 बजे फेसबुक लाइव कार्यक्रम हमारे घर हमारा विद्यालय में विभाग की प्रमुख सचिव रश्मि अरुण शमी ने किया।

इस वार्षिक कार्यक्रम में प्रतिभागियों को एक लाख से अधिक शिक्षकों और अन्य सहयोगियों को संबोधित करते हुए रश्मि अरुण ने कहा कि बच्चे हर अवसर से सीखते हैं। अगर बच्चा अपने पिता के साथ खेत में भी जाता है तो भी वह एक नई हुनर ​​प्राप्त करता है और इस काम में दूरी और माप की गणितीय शिक्षा और पर्यावरण की शिक्षा प्राप्त करता है। हर कार्य उन्हें अनुभव प्रदान करता है।

उन्होंने कहा कि विभाग का दायित्व है कि, स्कूल बंद होने से हम बच्चों को हर तरह से सीखने में सहयोग करें। उन्होंने परिजनों से अनुरोध किया है कि बच्चों को घर पर भी अध्ययन का वातावरण उपलब्ध कराएं, उन्हें घर में ही एक उचित स्थान दें जहां वे बिना किसी व्यवस्थापन के अपनी पढ़ाई कर सकें। ‘हमारा घर हमारा विद्यालय ‘योजना ऐसी ही एक अंगीभूत कुश्ती है, जो बच्चों को परिवार के सहयोग से घर पर ही पढ़ाई को सुचारु रखने में सहयोगी होगी। इस अवसर पर आयुक्त राज्य शिक्षा केंद्र लोकेश कुमार जाटव ने बताया कि, हमारा हमारा घर हमारा विद्यालय ’योजना प्रदेश के कक्षा 1 से 8 तक के विद्याथिरों के लिए बनाई गई है। विद्यार्थी अब अपने घर पर ही विद्यालय के वातावरण में अध्ययन कर सकता है।

घर के स्कूल में सुबह 10 बजे परिजनों द्वारा घण्टी / थाली बजाकर स्कूल प्रारम्भ किया जाएगा, इसी प्रकार दोपहर एक बजे घण्टी / थाली बजाकर अवकाश किया जाएगा। इससे बच्चों को घर में ही विद्यालय का आभास होगा। इस कार्यक्रम के लिए राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा एक सुचारु समय सारिणी भी परिजनों और छात्रों को उपलब्ध कराई जा रही है।

जिसके अनुसार सोमवार से शुक्रवार सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक विषयनुरुप अध्ययन होगा और शनिवार को मस्ती की पाठशाला के तहत मनोरंजनात्मक क्रियाओं का आयोजन किया जाएगा। वहीं, शाम को दो घंटे छात्र अपने परिवार के बड़े-बुजुर्गों से कहानियां सुनकर उनपर नोट्स तैयार करेंगे और योग और अन्य खेलकूद की गतिविधियों का आयोजन अपने घर पर ही करेंगे।

bharatsamachar.tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। खबर सबसे पहले देखने के लिए यहां क्लिक करें। National News in Hindi के लिए क्लिक करें ब्रेकिंग सेक्‍शन

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *