Crime

MP बोर्ड परीक्षा: शिक्षकों को चेकिंग के लिए सोशल डिस्टेंसिंग के साथ दी जा रही हैं कॉपी- MP बोर्ड परीक्षा की कॉपी मूल्यांकन शुरू हो गया है। bhopal – समाचार हिंदी में


एमपी बोर्ड परीक्षा की कॉपी मूल्यांकन का काम शुरू

लॉकडाउन के कारण 10 वीं और 12 वीं की 21 मार्च से सभी परीक्षाएं होती हैं। उससे पहले जो पेपर हो चुके हैं उनका मूल्यांकन किया जा रहा है

भोपाल। मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा प्रभाग (एमपी बोर्ड) की १० वीं और १२ वीं बोर्ड की परीक्षाओं में अब तक पेपर की कॉपी चेकिंग शुरू हो रही है। पूरे प्रदेश में शिक्षकों को बुधवार से चेकिंग के लिए कॉपियां देने का काम शुरू कर दिया गया है। हर जिले में एक केंद्र बनाया गया है जहां शिक्षकों को कॉपी दी गई है। शिक्षक अपने घर पर कॉपी जांच करेगा और फिर से इसी केंद्र पर आकर कॉपी जमा कराएंगे। भोपाल के टीटी नगर स्थित मॉडल स्कूल से इसकी शुरुआत हुई।

मध्य प्रदेश में माध्यमिक शिक्षा प्रभाग की 10 और 12 वीं बोर्ड की परीक्षाओं की कॉपी चेकिंग शुरू हो रही है। कोरोना के कारण 21 मार्च से बोर्ड की परीक्षाओं में कर दी गयीं थी। जो पेपर हो चुके हैं उनकी कॉपी चेकिंग की होनी है। शिक्षकों को बुधवार से चेकिंग के लिए कॉपी देना शुरू कर दिया गया है। भोपाल में मॉडल स्कूल को इसका केंद्र बनाया गया था। यहां कोरोना से बचाव के नियमों का पालन करते हुए एक बार में सिर्फ चार शिक्षकों को कॉपी दी गयी। एक-एक घंटे के अंतराल में शिक्षकों को बुलाया गया। यहां आने वाले टीचर्स को सैनेटाइज करने के लिए सैनेटिंग मशीन लगायी गयी हैं।

कॉपी चेकिंग की ये व्यवस्था है

एमपी बोर्ड ने कॉपी चैकिंग के लिए जो गाइडलाइन जारी की थी उसी के मुताबिक काम किया जा रहा है। मॉडल स्कूल की प्रिंसिपल और मूल्यांकन केंद्र अधिकारी रेखा शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि एक कमरे में केवल चार शिक्षकों को ही बिठाया जा रहा है। एक बार में केवल चार शिक्षकों को कॉपियों दी जा रही हैं। उनके जाने के बाद ही दूसरे चार से पांच शिक्षकों को स्कूल में प्रवेश किया जा रहा है। 10 दिन के भीतर शिक्षकों को कॉपी जांचकर लौटाना है। मॉडल स्कूल स्थित मूल्यांकन केंद्र में ही नोडल अधिकारी के सामने शिक्षक शीट में नंबर भरेंगे। स्कूल पहुंचे शिक्षकों को संक्रमण से मुक्त करने के लिए स्कूल परिसर के बाहर सैनिटाइजिंग मशीन लगाई गई है ताकि स्कूल में प्रवेश लेने से पहले और स्कूल से बाहर निकलते ही शिक्षक पूरी तरह से संक्रमण मुक्त हो सकें।पूरे प्रदेश में कॉपी वितरण की यही व्यवस्था है। गयी है। जो शिक्षक कॉपी लेने नहीं पहुंचेंगे उनके घर पर पहुंचेंगे। बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियां सभी जिलों में मूल्यांकन के लिए भेज दी गयी हैं।

10 दिन में रिजल्ट

लॉकडाउन के कारण 10 वीं और 12 वीं की बीटी 21 मार्च से सभी परीक्षाएं होती हैं। उससे पहले जो पेपर हो चुके हैं उनका मूल्यांकन किया जा रहा है। लॉकडाउन खत्म में केवल शेष पेपर के लिए 10 दिन के भीतर बचे हुए पेपरों की तारीखें घोषित कर दी जाएगी। परीक्षा में केवल बाकी कॉपियां भी होती हैं। चेकिंग का काम पूरा होते ही 17 दिन के अंदर रिजल्ट घोषित कर दिया जाएगा

एक शिक्षक को 450 कॉपियां

एमपी बोर्ड की 10 वीं और 12 वीं की परीक्षाएं दो और तीन मार्च से शुरू हुई थीं। 19 मार्च तक पेपर मिले। कोरोना संक्रमण के कारण एहतियात के तौर पर स्कूल बंद कर दिए गए और 21 मार्च से होने वाले सभी पेपर विज्ञापन कर दिए गए थे। दो से 17 मार्च तक हो चुके पेपर की कॉपियां जांची जानी चाहिए। वह काम अब शुरू हो रहा है। बुधवार को ये कॉपियां जिले की समन्वयक संस्था या प्राचार्य के माध्यम से मूल्यांकनकर्ताओं को सौंपी गयीं। कलेक्टर देखने के लिए एक नोडल अधिकारी भी नियुक्त किया गया है। प्रत्येक शिक्षक को मूल्यांकन के लिए लगभग 450 कॉपियों का बिंद दिया जा रहा है। शिक्षकों को 10 दिन में कॉपियां जांचनी हैं। हर जिले में कलेक्टर के निर्देशन में ही मूल्यांकन कार्य किया जाएगा।

होलोक्राफ्ट स्पीकर के पास होने पर प्रकरण कार्रवाई होगी

लॉकडाउन होने के कारण शिक्षक अपने-अपने घरों में कॉपी जांच करेंगे। इस काम में किसी तरह की गड़बड़ी ना हो इसलिए जरूरी निर्देश जारी किए गए हैं। होलोक्राफ्ट्स हटाए बिना ही कॉपियां चेक की बीगी। अगर किसी की भी नकल का होलोक्राफ्ट्स खराब हुआ है तो कॉपी चैक करने वाले शिक्षक पर कार्रवाई की जाएगी। ओएमआर शीट में उप मुख्य बॉक्स की देखरेख में ही नंबर भरा जाएगा।

प्राचार्य को 50 हजार रु

जो शिक्षक नहीं आ पा रहे हैं प्रकरण सुरक्षा के बीच कॉपियां बंद गाड़ियों में उनके घरों तक पहुंचाई जाएगी। जिला शिक्षा अधिकारी की ओर से नियुक्त अधिकारी, कर्मचारी या उप मुख्य प्रशिक्षक ही इन गाड़ियों में जाएंगे और नकल करके आएंगे। माध्यमिक शिक्षा विभाग की ओर से प्रत्येक प्राचार्य और मूल्यांकन केंद्र अधिकारी को गाड़ी की व्यवस्था करने के लिए 50 हजार रुपए दिए गए हैं। सतर्क जिलों और क्षेत्रों में सुरक्षा के साथ कॉपियां पहुंचाने के निर्देश दिए गए हैं।

सोशल डिस्टेंस बनाए रखें

माध्यमिक शिक्षा प्रभाग ने साफ निर्देश दिए हैं कि कॉपी ले जा रहे हैं और शिक्षकों को देते हैं कि सोशल डिस्टेंसिंग का खास ख्याल रखा जाए। कॉपियां जल्द ही अधिकारी, कर्मचारी और शिक्षक को सलाह देती हैं और ग्लब्स जरूर पहनती हैं। साथ ही मूल्यांकन के पहले और बाद में सैनेटाइजर का आवश्यक रूप से इस्तेमाल करें।

ये भी पढ़ें-

धार में आरएसएस नेता के भतीजे की तीर मारकर हत्या, हत्या में चाचा की भी मौत

शिवराजडिया में विभागों का बंटवारा: नरोत्तम मिश्रा को गृह और स्वास्थ्य

News18 हिंदी सबसे पहले हिंदी समाचार हमारे लिए पढ़ना यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर । फोल्ट्स। देखिए भोपाल से संलग्न लेटेस्ट समाचार।

प्रथम प्रकाशित: 22 अप्रैल, 2020, 4:59 PM IST


इस दिवाली बंपर अधिसूचना
फेस्टिव सीजन 75% की एक्स्ट्रा छूट। केवल 289 में एक साल के लिए सब्सक्राइब करें करें मनी कंट्रोल प्रो।कोड कोड: DIWALI ऑफ़र: 10 नवंबर, 2019 तक

->





Source link