इंदौर: कोरोना के मरीजों पर इस्तेमाल होने वाली ये दवा, दवा के नतीजों से उम्मीद बढ़ी है! | indore – समाचार हिंदी में
Breaking News

कोरोना के मरीजों पर इस्तेमाल होने वाली ये दवा, दवा के नतीजों से उम्मीद बढ़ी है!

इंदौर। देश में को विभाजित -19 (COVID-19) संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में इंदौर (इंदौर) में इस महामारी के मध्यम लक्षणों वाले रोगियों के वायरस पर दवा रेमडेसिवीर का इस्तेमाल शुरू कर दिया गया है। डॉक्टरों के मुताबिक इसके शुरुआती नतीजे उत्साहजनक हैं।

श्री अरबिंदो इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (सैम्स) के छाती रोग विभाग के प्रमुख डॉ। रवि डोसी की मानें तो पहले चरण में को विभाजित -19 के मध्यम लक्षण वाले ऐसे सात रोगियों पर रेमडेसिर का इस्तेमाल शुरू किया गया है जो आईसीयू (आईसीयू) में भर्ती हैं और सांस लेने में बड़ी कठिनाई के कारण कृत्रिम ऑक्सीजन पर निर्भर हैं।

सातों रोगियों को प्रोटोकॉल के तहत अन्य दवाएं भी दी जा रही हैं।डॉ। डोसी ने बताया कि ये मरीज 28 से 68 वर्ष तक की उम्र के हैं। इनमें से पाँच लोगों को पुरानी बीमारियाँ भी हैं जिनमें डाय, उच्च रक्त और गठिया भी शामिल हैं। उन्होंने बताया कि इन रोगियों को इंजेक्शन के माध्यम से रेमडेसिर इसलिए दी जा रही है ताकि हम उनकी हालत बिगड़ने से रोक सकें और उन्हें जीवन रक्षक यंत्र (वेंटिलेटर) पर रखने की नौबत न आने पाय।

परिणाम उत्साहजनक!

डॉ डोसी ने बताया कि सातों रोगियों को पिछले तीन दिन से हर रोज रेमडेसिवीर का एक-एक इंजेक्शन लगाया जा रहा है। तय डोज के मुताबिक ये इंजेक्शन कुल पांच दिन तक लगाए जाने वाले हैं। उन्होंने बताया कि इन रोगियों पर रेमडेसिवीर का परिणाम उत्साहजनक है। हालांकि, पांच दिन का डोज पूरा होने के बाद इस विषय में पुख्ता तौर पर कुछ कहा जा सकता है।

आधिकारिक जानकारी के मुताबिक इंदौर में अब तक कोविद -19 के कुल 4,664 मरीज मिले हैं। इनमें से 226 मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है, जबकि 3,435 लोग उपचार के बाद स्वस्थ हो चुके हैं।इस अभियान की शुरुआतमालूम हो कि कोरोना संक्रमण को प्रदेश से खत्म करने के लिए प्रदेश भर में 1 जुलाई से ‘किल कोरोना’ अभियान की शुरूआत होने जा रही है, लेकिन राजधानी में इस कैंपेन की शुरुआत शानदार 27 जून से ही हो रही है।

इसमें भोपाल के साथ ही प्रदेश की आबादी (लगभग 8.5 करोड) में मुख्यत: फिट का सर्वे किया जाएगा। इस महाभियान में आम लोगों से उनकी सेहत से जुड़े छ: सवाल पूछे जाएंगे। लोगों के जवाब से ये तय होगा कि ये कोरोना के लक्षणों का मरीज है या डेंगू, मलेरिया सहित दूसरे बुखार का है।

bharatsamachar.tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। खबर सबसे पहले देखने के लिए यहां क्लिक करें। National News in Hindi के लिए क्लिक करें ब्रेकिंग सेक्‍शन

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *